Dengue Fever in Bangladesh | 1,000 से अधिक लोगों की मौके पर मौत

Dengue Fever in Bangladesh प्रकोप ने अब तक 1,000 से अधिक लोगों की जान ले ली है। जनवरी से लेकर अब तक, Dengue Fever से 1,017 लोगों की मौके पर मौत हो चुकी है, जिसमें 100 से अधिक बच्चे शामिल हैं, और डेंगू के संक्रमण ने 208,000 से अधिक लोगों को प्रभावित किया है, यह बांग्लादेश स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय की जानकारी के अनुसार है, जो सोमवार को जारी की गई।

Dengue Fever दक्षिण एशियाई देश में पूर्वगत रूप से प्रचलित है, संक्रमण सामान्यत: जुलाई से सितंबर के बीच गरमी के मौसम के दौरान बढ़ते हैं, लेकिन इस बार मामूली बात नहीं है – इसका उतार-चढ़ाव अप्रैल के अंत की ओर शुरू हो गया।

इसके पीछे लंबे मौसम की अवधि ने गर्मियों के तापमान के साथ ही अनियमित, भारी बारिश का मिलना-जुलना आदर्श प्रजनन स्थितियों को बनाया, जिसमें Dengue बीमारी को लेकर एडीस मच्छर के लिए आदर्श जन्मस्थल था, वैज्ञानिक कहते हैं।

रोगीयों के प्रवाह ने देश के स्वास्थ्य प्रणाली को तनाव में डाल दिया है और अस्पतालों में बिस्तरों और कर्मचारियों की कमी का सामना करना पड़ा है, स्थानीय मीडिया ने रिपोर्ट किया है।

इस प्रकोप से होने वाली मौके पर मौतें पिछले साल की तुलना में लगभग चार गुना अधिक हैं, जब 281 लोगों की मौके पर मौत हुई थी। सितंबर में ही, बांग्लादेश स्वास्थ्य प्राधिकरणों के अनुसार, 79,600 से अधिक मामले और 396 मौके पर मौतें रिपोर्ट हुईं।

इसके साथ ही, इस प्रकोप के सर्दियों के महीनों में फैलने के बारे में भी चिंता बढ़ रही है। पिछले साल, Dengue Fever के मामले केवल अक्टूबर में शीर्ष पर हुए थे, और अधिकांश मौके नवम्बर में दर्ज हुए थे।

Dengue Fever in Bangladesh : एक खतरनाक मच्छर के द्वारा प्रसारित वायरस

डेंगू एक वायरल संक्रमण है, जिससे बुखार के दर्द, मांसपेशियों और जोड़ों का दर्द, बुखार और कुछ मामलों में आंतरिक रक्तस्राव के साथ फ्लू-जैसे लक्षण होते हैं, और कभी-कभी मौके पर मौत हो सकती है। इसे एक संक्रमित एडीस मच्छर के काटने के माध्यम से मनुष्यों को पहुंचता है, और इस बीमारी के लिए कोई विशेष उपचार नहीं है।

Also Read  Lobea: प्रोटीन का सबसे शक्तिशाली स्रोत

Dengue Fever, जिसे ब्रेकबोन फीवर भी कहा जाता है, 100 से अधिक देशों में पूर्वगत रूप से प्रचलित है, और हर साल, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, 100 मिलियन से 400 मिलियन लोग संक्रमित होते हैं।

इससे पहले, प्रकोप आमतौर पर दिल्ली जैसे अधिक जनसंख्या वाले शहरों में मरीज़ों को प्रतिबंधित रखने के लिए थे – जहाँ 20 मिलियन से अधिक लोग रहते हैं – लेकिन इस साल संक्रमण तेजी से पूरे देश के हर जिले में फैल गए, शामिल हैं गांवों में भी, WHO ने कहा।

WHO के महानिदेशक जेड्रोस अद्दानोम गेब्रियेसुस ने पिछले महीने एक समाचार वितरण में कहा कि यूएन संगठन बांग्लादेश सरकार और प्राधिकरणों को “संवादना, प्रयोगशाला क्षमता, नैदानिक प्रबंधन, वेक्टर नियंत्रण, जोखिम संचार और समुदाय बहुमुखीकरण” में मदद कर रहा है, प्रकोप के दौरान।

ये भी पढ़े :- Bihar Teacher Exam Result 2023

लेकिन देश के सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों की ओर से डेंगू को अधिक प्राथमिकता देने और रोकथाम उपायों पर ध्यान केंद्रित करने की मांग है, जिसमें जल्दी पहचान और पूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं का उपयोग शामिल है – डेंगू के दुबारा संक्रमण अधिक गंभीर और मौके पर मौत भी हो सकती हैं।

ये क्रियाएँ बांग्लादेश से ही सीमित नहीं हैं। जैसे-जैसे भूकंपक सूल जलाने के कारण ग्लोबल गर्मी बढ़ती है, नई दुनिया के क्षेत्रों में ब्रेकबोन जैसी बुखारों की आपातकालीन घटनाएँ आम होती जाएँगी।

WHO के अनुसार, पिछले दो दशकों में Dengue Fever के मामलों की ग्लोबल संख्या आठ गुणा बढ़ गई है।

जैसे-जैसे जलवायु संकट और बढ़ता है, मच्छर-प्रसारित बीमारियाँ जैसे कि Dengue Fever, ज़िका, चिकनगुनिया और पीली बुखार मानव स्वास्थ्य पर और अधिक असर करेंगी।

इस साल, Dengue Fever ने दक्षिण अमेरिका को भारी तरीके से प्रभावित किया है, जबकि पेरू ने अपने रिकॉर्ड के साथ सबसे खराब प्रकोप का सामना किया है। फ्लोरिडा में मामले ने कई जिलों को चेतावनी पर ले लिया। एशिया में मामलों में वृद्धि दर्ज की गई है, श्रीलंका, थाईलैंड और मलेशिया को भी छूक ली है, और उप-सहारा अफ्रीका के जैसे देशों ने भी प्रकोप की रिपोर्ट की है।

Also Read  Diarrhea in Bilaspur के मरीजों की तादाद में वृद्धि, सौरभ तिवारी की रिपोर्ट

WHO के चेतावनी और प्रतिक्रिया निदेशक अब्दी महमूद ने कहा कि प्रकोप एक “जलवायु संकट की खड़ी में एक बैटरी की तरह” है और कहा कि “और अधिक और अधिक देश” इन बीमारियों के “भारी बोझ” का अनुभव कर रहे हैं।

खतरनाक डेंगू: क्या है इसका कारण?

डेंगू एक मच्छर के द्वारा प्रसारित होने वाला एक वायरस है, जिसमें चार प्रमुख प्रकार होते हैं – डेंगू 1, डेंगू 2, डेंगू 3, और डेंगू 4। इनमें से हर एक प्रकार की डेंगू कार्यान्वित तीन चरणों में होती है – सुरक्षित चरण, बुढ़ापा चरण और मौके पर मौत चरण।

डेंगू वायरस एडीस मच्छर के काटने से मानव तंतु की मानें चलते हैं, और इस वायरस की खास बात यह है कि यह एक बार संक्रमित होने के बाद मानव शरीर में एक प्रकार की सुरक्षा पैदा करता है, जिससे व्यक्ति को दूसरे प्रकार की डेंगू संक्रमण से बचाने में मदद मिलती है, लेकिन यह वायरस दुबारा संक्रमित होने पर जीवनकारी तरीके से गंभीर हो सकता है।

डेंगू के प्रमुख लक्षणों में बुखार, पिछले अंगों का दर्द, मांसपेशियों और जोड़ों का दर्द, तेज दर्द वाले सिरदर्द, और कभी-कभी आंतरिक रक्तस्राव शामिल होता है। यह लक्षणों का संकेत देने वाला वायरस कई मौसमों में मानव स्वास्थ्य पर बड़ा प्रभाव डाल सकता है, जिससे व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन पर बुरा असर पड़ सकता है।

डेंगू के पिचकारे के उपाय

डेंगू रोकथाम में जनता के योगदान भी महत्वपूर्ण होता है। इस वायरस के प्रसारण को कम करने के लिए निम्नलिखित उपायों का पालन करना चाहिए:

1. मच्छरों के खिलौने से बचाव: आपके आसपास के इलाकों में खड़े पानी को बचाव करें, ताकि मच्छर उसमें पैदा नहीं हो सकें।

2. मच्छरों से बचाव: सुरक्षित जल को संरक्षित रखने के लिए अंटी-मच्छर और मच्छर बाधाकों का प्रयोग करें।

3. अच्छी हवा सांस लेना: जब बाहर जाते हैं, तो लंबी सलवार और शर्ट पहनें और मोशन नेट पहन कर अपने शरीर को मच्छरों से बचाएं।

4. वृद्धि संज्ञान: समुदाय के सदस्यों को Dengue Fever के लक्षणों को समझने और स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करने के लिए प्रोत्साहित करें।

5. डेंगू टीका: डेंगू के खिलाफ टीकाकरण करवाना भी महत्वपूर्ण है, खासकर वर्गों में जिन्हें ज्यादा खतरा हो सकता है, जैसे कि बच्चों और बूढ़े लोग।

Also Read  Lobea: प्रोटीन का सबसे शक्तिशाली स्रोत

6. मानव संरक्षण: बच्चों और बूढ़े लोगों को डेंगू संक्रमण से बचाने के लिए खास ध्यान देना चाहिए, क्योंकि उनके लिए संक्रमण ज्यादा खतरनाक हो सकता है।

आगामी खतरे: जलवायु संकट और मच्छर-प्रसारित बीमारियाँ

डेंगू के साथ ही, जलवायु संकट बढ़ता जा रहा है, जिससे मच्छर-प्रसारित बीमारियाँ जैसी कि डेंगू, ज़िका, चिकनगुनिया और पीली बुखार आगे फैल सकती हैं और मानव स्वास्थ्य पर और अधिक असर कर सकती हैं।

इस वर्ष, डेंगू ने दक्षिण अमेरिका को भारी तरीके से प्रभावित किया है, और पेरू अपने रिकॉर्ड के साथ सबसे खराब प्रकोप का सामना कर रहा है। फ्लोरिडा में मामले ने कई जिलों को चेतावनी पर ले लिया है। एशिया में मामलों में वृद्धि दर्ज की ग

ई है, श्रीलंका, थाईलैंड और मलेशिया को भी छूक ली है, और उप-सहारन अफ्रीका के जैसे देशों ने भी प्रकोप की रिपोर्ट की है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की चेतावनी

WHO के चेतावनी और प्रतिक्रिया निदेशक अब्दी महमूद ने कहा कि प्रकोप एक “जलवायु संकट की खड़ी में एक बैटरी की तरह” है और कहा कि “और अधिक और अधिक देश” इन बीमारियों के “भारी बोझ” का अनुभव कर रहे हैं।

यह स्पष्ट है कि जलवायु परिवर्तन का प्रभाव हमारे स्वास्थ्य पर दिखाई देने लगा है, और डेंगू जैसी मच्छर-प्रसारित बीमारियों का प्रकोप और अधिक स्थानों पर फैलने की संभावना है।

समापन

Dengue Fever in Bangladesh के लिए एक सख्त परीक्षण है, और यह एक मानव स्पर्श में हो रहे संकट का सबूत है। हमें इसे संज्ञान में लेकर Dengue Fever जैसी बीमारियों के खिलाफ साझा जवाब देने की जरूरत है, ताकि हम इस खतरे को समय पर रोक सकें। आशा है कि हम सभी मिलकर Dengue Fever और अन्य मच्छर-प्रसारित बीमारियों के खिलाफ जागरूक होंगे और स्वस्थ्य जीवन जीने के उपायों को अपनाएंगे।

Dengue Fever in Bangladesh

बांग्लादेश के Dengue Fever से संकट में वृद्धि हो रही है, जिसमें अब तक 1,000 से अधिक लोगों की मौके पर मौत हो चुकी है। जानिए इस समस्या के कारण और रोकथाम के उपायों के बारे में। #डेंगू #बांग्लादेश #स्वास्थ्य

2 thoughts on “Dengue Fever in Bangladesh | 1,000 से अधिक लोगों की मौके पर मौत”

Leave a Comment